20 मार्च को होलिका दहन होगा और अगले दिन यानी 21 मार्च को रंगों से होली खेली जाएगी।

रंगों का त्योहार होली (Holi 2019) हर साल धूमधाम से मनाया जाता है। यह उत्तर भारत का प्रसिद्ध त्योहार है। उत्तर प्रदेश, बिहार जैसे राज्यों में सबसे अधिक मनाया जाता है। इस वर्ष की होली 2019 20 और 21 मार्च को मनाई जाएगी। 20 मार्च को होलिका दहन होगा और अगले दिन यानी 21 मार्च को रंगों से होली खेली जाएगी।

कब है होलिका दहन? 

खेलने वाली होली से ठीक एक दिन पहल रात के समय होलिका जलाई जाती है।

इसे होलिका दहन के नाम से जाना जाता हाही। इस साल 20 मार्च को होलिका दहन है। धर्म के अलावा ज्योतिष शास्त्र में भी होलिका दहन का अत्यधिक महत्व है। इसे शुभ मुहूर्त में ही किए जाने का महत्व है।

होलिका दहन के दौरान भद्रा काल का अत्यंत ध्यान दिया जाता है। भद्रा काल समाप्त होने के बाद ही होलिका दहन किया जाता है। 20 मार्च की सुबह 10 बजकर 45 मिनट से अशुभ काल भद्रा प्रारंभ हो जाएगा जो कि रात 8 बजकर 59 मिनट तक रहेगा। तो इस हिसाब से रात 9 बजे के बाद ही होलिका दहन किया जाएगा।

कब है होली या दुल्हंडी? 

होलिका दहन से अगले दिन्ह मनाई जाने वाली रंगों की होली को धर्म शास्त्रों में 'दुल्हंडी' के नाम से जाना जाता है। आम भाषा में इसे खेलने वाली होली कहते हैं। इस साल दुल्हंडी 21 मार्च को है। पंचांग के अनुसार इस बार दुल्हंडी का पर्व मातंग योग में मनाया जाएगा। पूर्वा फागुनी और उत्तरा फागुनी नाम के दो नक्षत्रों में होली खेली जाएगी।

कब से है होलाष्टक 2019 

धर्म शास्त्रों की मानें तो होली से कुछ दिन पहले ही अशुभ समय 'होलाष्टक' शुरू हो जाता है। कहते हैं कि इस दौरान किसी भी शुभ कार्य की शुरुआत नहीं करनी चाहिए। होलाष्टक 2019 गुरूवार 14 मार्च से शुरू होकर फाग के दिन समाप्त होंगे। यूं तो हमेशा होलाष्टक आठ दीन्हों के होते हैं लेकिन इस वर्ष होलाष्टक केवल सात दिनों तक चलेंगे। 

YOUR REACTION?

Facebook Conversations