City Voice – Latest News From Around The India
Image default
आहार और पोषण सवाल और जबाब

हल्दी दूध का पौष्टिक महत्व क्या है?

भारतीय व्यंजनों में और आयुर्वेदिक दवाओं में हजारों वर्षों से होता आ रहा है। हल्दी में प्राकृतिक एंटीबायोटिक गुण होते हैं और दूध कैल्शियम का समृद्ध स्रोत है। आपके दैनिक आहार में इन दोनों प्राकृतिक अवयवों को शामिल करने से बीमारियों और संक्रमणों को रोका जा सकता है।

हल्दी दूध, जिसे गोल्डन दूध (golden milk) भी कहा जाता है। यह परंपरागत रूप से अनेक बीमारियों के साथ-साथ सामान्य स्वास्थ्य के इलाज के लिए भारतीय परिवारों में भी प्रयोग किया जाता है। यह पेय तैयार करना बेहद आसान और आकर्षक है, दूध में हल्दी होने के कारण यह हल्दी का चटपटापन कम कर देता है। हल्दी को आयुर्वेदिक दवा में ‘प्राकृतिक एस्पिरिन’ भी कहा जाता है। यह तो हम जानते ही हैं की दूध हमारी हड्डियों को मजबूत करता है। दूध के साथ मिलकर, यह एक शक्तिशाली मिश्रण बनाता है जिससे कई स्वास्थ्य और सौंदर्य लाभ प्राप्त होते हैं।

हल्दी दूध कई स्वास्थ्य लाभ प्रदान करता है क्योंकि इसमें सूजन को कम करने वाले और एंटी-ऑक्सीडेंट दोनों गुण होते हैं। यह सिरदर्द और घावों के कारण शरीर में हो रही सूजन या दर्द से राहत देने में मदद करता है। यह पुराना उपाय एक शक्तिशाली संयोजन है जिसके कई स्वास्थ्य लाभ हैं। आइए जानें हल्दी के दूध के फायदे के बारे में विस्तार

हल्दी दूध के अन्य फायदे –

श्वसन प्रणाली से संबंधित बीमारियों में –

सर्दी खांसी में –

फायदे रक्त परिसंचरण में लाते हैं सुधार –

औषधीय गुण गठिया से संबंधित समस्याओं में –

फायदे कैंसर को रोकने में –

बेनिफिट्स प्राकृतिक प्रतिरक्षा को बढ़ाने में –

लाभ बेहतर नींद पाने में –

उपयोगी मासिक धर्म में –

गुण युवा त्वचा के लिए –

औषधीय गुण बेहतर पाचन में मददगार –

वजन कम करने की दवा –

हल्दी दूध के नुकसान –

हल्दी दूध की तासीर –

हल्दी दूध की तासीर गर्म होती है। हल्दी दूध शरीर को गर्मी देता है पर इसका अधिक इस्तेमाल शरीर को नुक्सान भी पहुंचा सकता है। इसलिए इसका उपयोग नियमित रूप से करें।

हल्दी दूध के अन्य फायदे –

आयुर्वेदिक परंपरा में हल्दी दूध को एक बेहतरीन रक्त शोधक माना जाता है। यह शरीर में रक्त परिसंचरण को भी बढ़ावा देता है।

हल्दी दूध एक एंटीस्पाज्मोडिक (antispasmodic) है, जो मासिक धर्म ऐंठन और दर्द को कम करता है।

एक्जिमा के इलाज के लिए रोजाना  एक गिलास पीएं।

गर्म हल्दी वाला दूध एक एमिनो एसिड (amino acid), ट्रायप्टोफान (tryptophan) पैदा करता है, जो एक शांतिपूर्ण और आनंददायक नींद लाने में मदद करते हैं।

हल्दी दूध सिरदर्द का इलाज करता है।

महिलाओं में प्रजनन स्वास्थ्य को बढ़ावा देने में भी मदद कर सकता है। इसका सेवन विशेष रूप से उन महिलाओं को करने की सलाह दी जाती है जो हार्मोनल असंतुलन के कारण गर्भ धारण नहीं कर सकती हैं।

उन सभी के लिए अच्छी खबर है जिनके पास अल्जाइमर है! रोजाना  पिने से अल्जाइमर की प्रगति धीमा हो सकती है और आपकी स्थिति में सुधार आ सकता है।

हल्दी में एंटीसेप्टिक (antiseptic), सूजन कम करने वाले (anti-inflammatory), एंटी-माइक्रोबियल (anti-microbial), और एंटी-एलर्जिक (anti-allergic ) गुण होते हैं जो कई तरह के घावों को ठीक करने में मदद करते हैं।

हल्दी वाला दूध पिने से मधुमेह नियंत्रित रहता है।

Related posts

Leave a Comment

X
Welcome to Our Website
Welcome to WPBot
wpChatIcon