City Voice – Latest News From Around The India
Image default
समाचार

धनु, मकर, कुंभ, मिथुन और तुला राशि पर है शनि की साढ़ेसाती और ढैय्या, गणेश चतुर्थी पर करें उपाय

गणेश चतुर्थी का दिन बहुत ही पवित्र दिन माना गया है. इस दिन गणेश जी की पूजा करने से जीवन में आने वाली बाधाओं से मुक्ति मिलती है. गणेश चतुर्थी के दिन विधि पूर्वक भगवान गणेश जी की पूजा करने से शनि ग्रह की अशुभता को दूर किया जा सकता है. महाभारत का जीतने के लिए श्रीकृष्ण ने युधिष्टिर को गणेश जी की पूजा करने के लिए कहा था. यही नहीं स्वयं भगवान श्रीकृष्ण ने भी अपयश और झूठे आरोपों से मुक्त होने के लिए गणेश चतुर्थी का व्रत रखकर विघ्नहर्ता यानि गणेश जी की पूजा की थी.

अशुभ शनि की लक्षण
शनि ग्रह जब अशुभ होता है तो व्यक्ति को वाद विवाद में फंसा देता है. पुलिस और अदालत के मामलों में उलझा देता है. झूठे आरोपों से व्यक्ति परेशान होने लगता है. धन हानि करता है और जमा पूंजी को भी अशुभ शनि नष्ट करता है. करीबी लोगों से संबंध खराब करा देता है. व्यक्ति को अपयश और अपमान भी सहन करना पड़ता है. खराब शनि व्यक्ति के जीवन में भटकाव लाता है. शनि व्यक्ति को बहुत परेशान करता है. इसलिए शनि का उपाय करना बहुत ही आवश्यक है.

शनि का स्वभाव
ज्योतिष शास्त्र में शनि को एक न्याय प्रिय ग्रह माना गया है. शनि शुभ और अशुभ फल व्यक्ति के कर्मों के आधार पर प्रदान करते हैं. अच्छे कार्य करने और दूसरों का भला चाहने वालों का शनि कभी अहित नहीं करते हैं. इसलिए व्यक्ति को गलत कार्यों से बचना चाहिए. नहीं तो शनि कठोर दंड देते हैं.

मकर राशि में शनि का गोचर
शनि इस समय मकर राशि में गोचर कर रहे हैं. मकर राशि में शनि 11 मई से गोचर कर रहे हैं. शनि मकर राशि में 142 दिन तक वक्री रहेंगे. शनि ग्रह 29 सितंबर के बाद मार्गी होंगे.

धनु,मकर और कुंभ पर है शनि की साढ़ेसाती
इस समय धनु राशि, मकर राशि और कुंभ राशि पर शनि ग्रह की साढ़ेसाती चल रही है. इसलिए इन राशियों को विशेष सावधान रहने की जरुरत है. गणेश चतुर्थी के दिन गणेश जी की पूजा करें और गणेश मंत्र और गणेश जी की आरती का पाठ करें.

मिथुन और तुला राशि पर है शनि की ढैय्या
मिथुन और तुला राशि पर इस समय शनि की ढैय्या चल रही है. शनि की ढैय्या व्यक्ति को जॉब और व्यापार से संबंधित परेशानी भी देती है. यहां तक की गंभीर रोग से भी व्यक्ति पीड़ित हो सकता है. इसलिए गणेश चतुर्थी के दिन शुभ मुहूर्त में गणेश जी की पूजा करें तथा जरुरतमंतों को दान आदि करें.

Related posts

Leave a Comment

X
Welcome to Our Website
Welcome to WPBot
wpChatIcon