Featured आयुर्वेद रोचक जानकारी

शुद्ध शहद की पहचान प्रयोग करने की सही विधी

शहद शुद्धता की पहचान

ज्यादा तर लोग सोचते हे की अगर शहद जम जाए तो वह नकली हे पर नही , जमा हुया शहद असली होता हे , लोग सोचते हे की वह चीनी से बनाया गया हे लेकिन चीनी की चाशनी बनाने के बाद उसके कभी crystal नहीं बनते , जेसे  नमक को पानी घोलने के बाद अगर गरम किया जाए तो बर्तन मे सिर्फ नमक के CRYSTAL ही रह जाते हे जो के चीनी मे नहीं होता

1. काँच के एक साफ ग्लास में पानी भरकर उसमें शहद की एक बूँद टपकाएँ। अगर शहद नीचे तली में बैठ जाए तो यह शुद्ध है और यदि तली में पहुँचने के पहले ही घुल जाए तो शहद अशुद्ध है।
2. शुद्ध शहद में मक्खी गिरकर फँसती नहीं बल्कि फड़फड़ाकर उड़ जाती है।
3. शुद्ध शहद आँखों में लगाने पर थोड़ी जलन होगी, परंतु चिपचिपाहट नहीं होगी।
4. शुद्ध शहद कुत्ता सूँघकर छोड़ देगा, जबकि अशुद्ध को चाटने लगता है।
5. शुद्ध शहद का दाग कपड़ों पर नहीं लगता।
6. शुद्ध शहद दिखने में पारदर्शी होता है।
7. शीशे की प्लेट पर शहद टपकाने पर यदि उसकी आकृति साँप की कुंडली जैसी बन जाए तो शहद शुद्ध है।

शहद के लाभकारी प्रयोग

शहद का नियमित और उचित मात्रा में उपयोग करने से शरीर स्वस्थ, सुंदर,बलवान, स्फूर्तिवान बनता है और दीर्घजीवन प्रदान करता है। शहद को घाव पर लगाने से घाव जल्दी भर जाते हैं। शहद का पीएच मान 3 से 4.8 के बीच होने से जीवाणुरोधी गुण स्वतः ही पाया जाता है। प्रातःकाल शौच से पूर्व शहद-नींबू पानी का सेवन करने से कब्ज दूर होता है, रक्त शुद्ध होता है और मोटापा कम होता है।

गर्भावस्था के दौरान स्त्रियों द्वारा शहद का सेवन करने से पैदा होने वाली संतान स्वस्थ एवं मानसिक दृष्टि से अन्य शिशुओं से श्रेष्ठ होती है। त्वचा पर निखार लाने के लिए गुलाब जल, नींबू और शहद मिलाकर लगाना चाहिए। गाजर के रस में शहद मिलाकर लेने से नेत्र-ज्योति में सुधार होता है। उच्च रक्तचाप में लहसुन और शहद लेने से रक्तचाप सामान्य होता है।
त्वचा के जल जाने, कट जाने या छिल जाने पर भी शहद लगाने से लाभ मिलता है।
नोट : गर्म करके अथवा गुड़, घी, शकर, मिश्री, तेल, मांस-मछली आदि के साथ शहद का सेवन नहीं करना चाहिए। जमा हुया शहद असली होता हे , उसको गरम पानी मे भिगो कर रखने से वह तरल हो जाएगा , 
हमारे यहां शुद्ध शहद मिलता है यदि आप शुद्ध शहद लेना चाहते हैं तो आप हमारे आश्रम आकर खुद जांच परख कर, ले सकते हैं या मंगवा सकते हैं, आप वेध जी को दिल्ली मे मिल सकते हें.
Cityvoice हिंदी मोबाइल ऐप एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

About the author

Shiv Kumar

I am a freelance writer and blogger that specializes in tips and tricks. I studied at the University of Delhi and am now on the Delhi,India. I frequently blog about writing tips to help students do better on their work.

1 Comment

Click here to post a comment